Thursday, 17 April 2014

Advertisment

Sri Ganganagar

कम से कम दो चुनाव और लडूंगा : राधेश्याम

PDFPrintE-mail

Written by sandhyab Thursday, 17 April 2014 09:34

श्रीगंगानगर। भाजपा उम्मीदवार निहालचंद अपनी जीत को लेकर आश्वस्त तो गंगानगर के पूर्व विधायक राधेश्याम गंगानगर अभी भी रिटायर होने के मूड में नहीं बल्कि कम से कम अगले दो और चुनाव लडऩे का ऐलान।
सूचना केन्द्र में बनाये गये पोलिंग बूथ का जायजा लेने निहालचंद पहुंचे तो पूर्व विधायक राधेश्याम गंगानगर भी अपने पुत्र रमेश राजपाल, पौते साहिल, निजी सहायक हेमंत कलिया, मीडिया प्रभारी प्रदीप धेरड़ के साथ आ गये। आपस में चर्चा हुई। काफी देर तक बातचीत के बाद राधेश्याम ने निहालचंद से पूछा कि अब कहां घूमोगे, तो निहालचंद का जवाब था कि आप ही घूमो, मैं कहीं नहीं घूमूंगा। राधेश्याम ने उन्हें हनुमानगढ़, पीलीबंगा इत्यादि क्षेत्रों में जाने के लिए कहा, वहीं सलाह दी कि वे फोन पर भी कार्यकर्ताओं के सम्पर्क में रहें ताकि कम से कम सभी क्षेत्रों में उनकी उपस्थिति महसूस होती रहे।
रमेश राजपाल और प्रदीप धेरड़ लगातार अलग-अलग बूथों पर मौजूद कार्यकर्ताओं से फीडबैक ले रहे थे। राजपाल ने राधेश्याम को एक फोन पर बात करने के बाद में बताया कि उस बूथ पर अब तक 1200 वोट डल चुके हैं और उनमें से कम से कम एक हजार वोट भाजपा के पक्ष में आये हैं। दोनों बाप-बेटा निश्ंिचत होकर निहालचंद को बता रहे थे कि कई बूथों पर जमींदारा पार्टी के एजेंट ही नहीं हैं। कांग्रेस के कार्यकर्ता भी पूरी तरह से निराश हैं।
इसी दौरान भाजपा कार्यकर्ता डॉ. ताराचंद ने अपने एक रिश्तेदार का परिचय राधेश्याम से करवाया तो राधेश्याम ने कहा कि मैं इनको बहुत पहले से जानता हूं। इन्होंने अपनी सरकारी सेवा में तुम्हारे समाज का गौरव बहुत बढ़ाया है। उस व्यक्ति ने बताया कि सरकारी सेवा पूरी हो चुकी है, लेकिन साथ में राधेश्याम को संबोधित करते हुए कहा कि ना तो आप रिटायर हो रहे हो और ना ही मैं इतनी उम्र होने के बावजूद रिटायर हुआ हूं। इतना सुनते ही राधेश्याम बोले कि मैं तो कभी रिटायर नहीं होऊंगा। अभी भी कम से कम दो चुनाव और लडूंगा। आस-पास बैठे लोग उनकी इस बात को सुनकर कई देर तक मुस्कुराते रहे।

 

शिमला नायक की जीत मानते हैं बीडी अग्रवाल

PDFPrintE-mail

Written by sandhyab Thursday, 17 April 2014 09:32

श्रीगंगानगर। जमीदारा पार्टी के अध्यक्ष बीडी अग्रवाल का कहना है कि पूरे राजस्थान में श्रीगंगानगर लोकसभा क्षेत्र से मतदान का प्रतिशत तेजी से बढऩे की वजह जमींदारा पार्टी है। लोगों में बढ़े रूझान की प्रमुख वजह जमींदारा पार्टी के पक्ष में मतदान करना है। उन्होंने कहा कि पूरे राजस्थान में 10 बजे तक 10-15 प्रतिशत मतदान हुआ वहीं श्रीगंगानगर में 22 फीसदी मतदान से चौंकाने वाले परिणाम सामने आएंगे। जमींदारा पार्टी प्रत्याशी अच्छे मतों से विजयी होंगी।
अग्रवाल ने कहा कि श्रीगंगानगर विधानसभा क्षेत्र के ग्रामीण बूथों पर मैंने दौरा किया है। वहां जमींदारा पार्टी के पक्ष में जबरदस्त रूझान है। उन्होंने गणेशगढ़ गांव में दौरे के दौरान कहा कि विधानसभा चुनाव में इस क्षेत्र में कामिनी जिंदल को सर्वाधिक मत मिले थे। इस बार पिछली बार से 10 प्रतिशत अधिक मत प्राप्त होंगे। अग्रवाल ने कहा कि ग्रामीण क्षेत्रों में जमींदारा पार्टी का डंका बज रहा है। शहरी क्षेत्रों में भी शिमला नायक टक्कर दे रही हैं। ग्रामीण क्षेत्रों में फसल मुआवजा, कृषि उपज के भाव नहीं मिलने, नहरों में पानी की कमी से किसान नाराज हैं। वहीं मेडिकल कॉलेज, सड़कों-सीवरेज एवं विभिन्न विभागों में भ्रष्टाचार से लोग भाजपा को सबक सिखाने को आतुर हैं।

 

मरीज व परिजन रहे मतदान प्रक्रिया से वंचित

PDFPrintE-mail

Written by sandhyab Thursday, 17 April 2014 09:32


श्रीगंगानगर। जिला अस्पताल में भर्ती मरीज मतदान प्रक्रिया से वंचित रहे तो वहीं कई मरीज मतदान केंद्र तक जाने में सक्षम थे, वो मतदान करने पहुंचे। मतदान करके आए मरीज पुरानी आबादी निवासी रामदर्शन ने बताया कि पिछले तीन चार दिनों से भर्ती था, लेकिन अब स्वास्थ्य में सुधार है तो डॉक्टर से पूछकर आज मतदान करने के लिए गया था। वहीं मरीज रविंद्र व विकास ने बताया कि उनकी इच्छा थी कि वो मतदान करें, लेकिन घड़साना क्षेत्र में वोट होने के कारण जा नहीं पाए।
जिला अस्पताल में दो सौ से अधिक मरीज भर्ती है, तो इनमें से ज्यादातर अपने मताधिकार का प्रयोग नहीं कर पाए। इतना ही नहीं ज्यादातर मरीजों के साथ आए परिजनों ने भी लोकतंत्र के यज्ञ में आहूति नहीं दी। जिला अस्पताल में भर्ती मरीज के परिजन राजेश ने बताया कि रायसिंहनगर क्षेत्र में वोट होने के कारण अपने मताधिकार का प्रयोग नहीं कर पाया। उन्होंने बताया कि मताधिकार का प्रयोग नहीं करने पर मलाल है कि हम भी लोकतंत्र के यज्ञ में अपनी आहूति देते।

 
 

गंगानगर सर्वाधिक मतदान की ओर

PDFPrintE-mail

Written by sandhyab Thursday, 17 April 2014 09:32


पोलिंग बूथों पर लगभग सन्नाटा, लेकिन वोटरों में उत्साह, चुनाव आयोग के विशेष इंतजामों ने बदला माहौल
श्रीगंगानगर। लगभग सूने पड़े मतदान केन्द्र, लेकिन दोपहर तक ही कई जगह 50 फीसदी से ज्यादा मतदान। कुछ मतदान केन्द्रों पर सुबह-सुबह लंबी कतारें। मतदान केन्द्रों के बाहर राजनीतिक पार्टियों की ओर से लगाई गई टेबलों पर उबासी लेते कार्यकर्ता। एक-एक वोटर के पास जाते बूथ लेवल अधिकारी। महिलाओं को अलग से जानकारी देती हुई आंगनबाडï़ी कार्यकर्ताएं। सोलहवीं लोकसभा में अपना प्रतिनिधि भेजने के लिए मतदाताओं में भरपूर उत्साह के बावजूद चुनावी माहौल जैसा कुछ भी नजर नहीं आया। चुनाव आयोग की ओर से किये गये इंतजामों के बाद राजनीतिक पार्टियों के कार्यकर्ताओं और एजेंटों के लिए अपने स्तर पर मतदाताओं को लाने के बारे में करने के लिए ज्यादा कुछ नहीं रह गया था।
गंगानगर लोकसभा क्षेत्र में दोपहर 1 बजे तक 48.49 प्रतिशत मतदाता अपने मताधिकार का प्रयोग कर चुके थे। गंगानगर विधानसभा क्षेत्र में 45 फीसदी, हनुमानगढ़ में 47.84, पीलीबंगा में 51.54, संगरिया में 51, सूरतगढ़ में 49.91, सादुलशहर में 48.65 और करणपुर में 49.40 फीसदी मतदान इस समय तक हो चुका था। इसके अलावा बीकानेर लोकसभा क्षेत्र के अनूपगढ़ विधानसभा क्षेत्र में 49 प्रतिशत मतदाताओं ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया था। सुबह-सुबह तीन-चार मतदान केन्द्रों पर बैलेट यूनिट और कंट्रोल यूनिट में तकनीकी खराबी के कारण परेशानी आई। वहां इन्हें बदला गया। इसके बाद भी कुछ जगह से इस तरह की शिकायतें आने का सिलसिला जारी था। सीमा क्षेत्र के एक एच बड़ा गांव में मतदाताओं ने मतदान केन्द्र काफी दूर होने के कारण बहिष्कार किया। उन्हें समझाने के लिए प्रशासन के अधिकारी मौके पर पहुंचे। समाचार लिखे जाने तक समझाइश का सिलसिला जारी था।
मतदान की प्रक्रिया को व्यवस्थित और सुचारू बनाये रखने के लिए प्रशासन ने व्यापक इंतजाम कर रखे हैं। मतदान केन्द्रों पर भी मतदाताओं के लिए कई तरह की सुविधाओं की व्यवस्था की गई है। पुलिस और अद्र्धसैनिक बलों के जवान न केवल मतदान केन्द्रों पर तैनात हैं बल्कि उनके गश्तीदल भी लगातार गश्त करने में जुटे हुए हैं। चुनाव आयोग की ओर से स्लिप की व्यवस्था करने के कारण मतदाता आम तौर पर मौन है और वे अपना रूझान प्रकट नहीं कर रहे, लेकिन चुनावी चर्चाओं में खुलकर भागीदारी कर रहे हैं। इस बार युवाओं और महिलाओं में भी मतदान को लेकर काफी उत्सुकता देखने में आ रही है। यहां तक कि कुछ महिलाओं ने बातचीत किये जाने पर यह खुलासा भी किया कि उनके परिवारों के पुरूष सदस्यों ने किसी उम्मीदवार या पार्टी विशेष के पक्ष में वोट डालने के लिए दबाव डालने की बजाय स्वतंत्र होकर मतदान की सलाह भी दी।

राज्य में एक बजे तक मतदान प्रतिशत
श्रीगंगानगर    ४७.८३
हनुमानगढ़    ४५.११
बीकानेर    ३४.५५
चूरू    ३४.३६
झूंझनू    ३१.४६
सीकर    ३१.४१
जयपुर    ३७.९४
अलवर     २५.६६
अजमेर    ४०.५८
नागौर    ३३.६५
पाली    ३८.7१
जोधपुर    ३६.४७
जैसलमेर    ४४.०२
बाड़मेर    ४२.४४
जालौर    ३५.७२
सरौही    ४१.२३
उदयपुर    ३६.७०
डूंगरगढ़    ३९.८६
बांसवाड़ा    ४३.४२
चित्तौडग़ढ़    ३७.७२
राजसंमद    ३७.१4
भीलवाड़ा    ३६.३३
बूंदी    ३३.१९
कोटा    ३७.९८
बांरा    ३९.४६
झालावाड़    ४०.२०
प्रतापगढ़    ४२.५९
कुल    ३७.७१
श्रीगंगानगर लोकसभा
सादुलशहर    ४६.६२
गंगानगर    ४५.६९
करणपुर    ४६.९९
सूरतगढ़    ४६.३२
रायसिंहनगर    ५१.०५
संगरिया    ४८.०५
हनुमानगढ़    ४१.९७
पीलीबंगा    ५२.४२
बीकानेर लोकसभा
अनूपगढ़    ५१.८८
खाजूवाला    ३५.१८
बीकानेर पश्चिम ४५.५६
बीकानेर पूर्व    ३८.०३
कोलायत    ३३.४३
लूणकरसर    ३१.३२
डूंगरगढ़    ३१.८३
नोखा    2९.६९

 

एक एच बड़ा में मतदान का बहिष्कार

PDFPrintE-mail

Written by sandhyab Thursday, 17 April 2014 09:29


श्रीगंगानगर। पोलिंग बूथ दूर होने के कारण 1 एच बड़ा के ग्रामीणों ने मतदान का बहिष्कार कर रखा है। सभी ग्रामीण एकजुट होकर गांव की गुवाड़ पर जुटे हुए हैं। मतदान के बहिष्कार की जानकारी मिलने पर थानाधिकारी व तहसीलदार भी 1 एच बड़ा में पहुंचे और ग्रामीणों से समझाईश की। ग्रामीणों ने पोलिंग बूथ गांव में ही बनाने की मांग करते हुए मतदान से इन्कार कर दिया।
ग्रामीण अशोक गोदारा ने बताया कि 1 एच बड़ा की ढाणियों में 595 मतदाता हैं। हर बार चुनाव में इन मतदाताओं के लिए पोलिंग बूथ गांव से 6 किमी दूर मदेरां गांव में बना दिया जाता है। बार-बार की मांग के बावजूद पोलिंग बूथ 1 एच बड़ा में ही शुरू नहीं किया जा रहा। इस बार ग्रामीणों ने एकजुट होकर अपनी मांग पूरी करवाने के लिए मतदान के बहिष्कार का निर्णय लिया है। अशोक गोदारा ने बताया कि मदेरां गांव के सरकारी स्कूल में जहां मतदान केन्द्र बनाया गया है वहां 1 एच बड़ा भाग संख्या 8 के लिए निर्वाचन विभाग की ओर से अलग से व्यवस्था की गई है। यदि निर्वाचन विभाग ग्रामीणों की समस्या को ध्यान में रखता तो यह सारी व्यवस्था एक एच बड़ा के सरकारी स्कूल में भी हो सकती थी। मदेरां में भाग संख्या 8  के लिए अलग कमरे, अलग वोटिंग मशीन और अलग से मतदान कर्मियों की नियुक्ति की गई है। यह सारी व्यवस्था 1 एच बड़ा में भी हो सकती थी। दोपहर 2 बजे तक मतदान के बहिष्कार की स्थिति बनी हुई थी।  बहिष्कार में लक्ष्मणराम, पंच गुरदयाल, दर्शन सिंह, बुधराम, ओमप्रकाश, मोडूराम, बिरमा देवी, साहब राम, रेशमी देवी, सोमा देवी, महेन्द्र, तेजाराम, कृष्ण देवी, श्रवण कुमार, रोशनी देवी, नंदराम, सजनी देवी सहित बड़ी संख्या में ग्रामीण शामिल थे।
मतदान केन्द्र गांव से दूर बनाये जाने का विरोध 1 एच बड़ा के ग्रामीण पूर्व में भी कर चुके हैं। बीती दिसम्बर विधानसभा चुनाव के समय भी ग्रामीणों ने एकजुट होकर मतदान के बहिष्कार का एलान कर दिया था। परंतु उस समय प्रशासन के अधिकारियों ने भविष्य में मतदान केन्द्र 1 एच बड़ा में ही रखने का भरोसा दिलवाकर मतदान करवा लिया था। परन्तु अब ग्रामीण अपनी मांग पूरी करवाने के लिए बहिष्कार के निर्णय पर अड़े हुए हैं।  
मौके पर समझाइश के लिए पहुंचे तहसीलदार ताराचंद वर्मा ने भी ग्रामीणों की समस्या को जायज माना। उन्होंने कहा कि 1 एच बड़ा के ग्रामीणों की मांग जायज है। पोलिंग बूथ गांव में ही खोले जाने के लिए जिला कलक्टर को लिखित में रिपोर्ट दी जाएगी। मतदान केन्द्र दूर होने के कारण ग्रामीणों की परेशानी को समझा जा सकता है। वर्मा ने बताया कि आज मतदान के लिए समझाईश की जा रही है।
सीमा क्षेत्र में उत्साह
सीमावर्ती गांवों में तो अनेक पोलिंग बूथ सुबह 10 बजे से पहले ही खाली हो गये थे। ऐसे मतदान केन्द्रों पर मतदान के शुरूआती 2 घण्टों के दौरान ही 30 प्रतिशत तक मतदान हो चुका था। बाद में दोपहर तक मतदाताओं का रुझान कम रहा।
- हिन्दुमलकोट गांव के राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय में स्थित मतदान केन्द्र भाग संख्या 14 पर सुबह साढ़े 10 बजे सन्नाटा पसरा हुआ था। मतदान केन्द्र के बाहर सुरक्षाकर्मी तैनात थे, तो भीतर मतदान कर्मी मतदाताओं का इंतजार करते दिखे। यहां 1123 मतदाताओं में से 330 ने मतदान कर लिया  था।
- राजकीय उच्च प्राथमिक विद्यालय सुजावलपुर में बूथ संख्या 13 पर प्रात: 10:50 बजे तक 1355 में से 513 ग्रामीणों ने मतदान में भाग लिया।
- रा.उ.बा.उ.मा. विद्यालय फतूही में स्थित 3 मतदान केन्द्रों में से 2 पर खामोशी छाई हुई थी। दोपहर साढ़े 11 बजे तक भाग संख्या 24 के बूथ पर 484 ग्रामीणों में से 268 ने मतदान कर लिया था। भाग संख्या 25 के मतदान केन्द्र पर दोपहर 11:35 बजे तक 874 में से 345 ग्रामीणों ने मतदान किया था। फतूही में ही मतदान केन्द्र संख्या 28 पर 683 के मुकाबले 355 मतदाताओं ने वोटिंग कर ली थी।
- रामावि मोहनपुरा में भाग संख्या 41 क के मतदान केन्द्र पर दोपहर 12.20 बजे सन्नाटा था। इससे पहले तक यहां 750 में से 472 लोगों ने मतदान कर लिया था। इसी स्कूल में मतदान केन्द्र संख्या 42 पर दोपहर 12.30 बजे तक 1215 में से 613 ने मतदान किया। भाग संख्या 41 के केन्द्र पर 869 मतदाताओं में 437 दोपहर 12.40 बजे तक मतदान कर चुके थे।

 
 
  • «
  •  Start 
  •  Prev 
  •  1 
  •  2 
  •  3 
  •  4 
  •  5 
  •  6 
  •  7 
  •  8 
  •  9 
  •  10 
  •  Next 
  •  End 
  • »

Page 1 of 580